Saturday, March 7, 2020

Kumar Vishwas Best Love Shayari

कोई दीवाना कहता है 


कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है 
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है 
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ तू मुझसे दूर कैसी है 
तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है


koee deevaana kahata hai koee paagal samajhata hai 
magar dharatee kee bechainee ko bas baadal samajhata hai 
main tujhase door kaisa hoon too mujhase door kaisee hai 
tera dil samajhata hai ya mera dil samajhata hai
____________________

मुहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है 
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है 
यहाँ सब लोग कहते हैं मेरी आँरवों में आँसू हैं
जो तू समझे तो मोती है जो ना समझे तो पानी है

muhabbat ek ahasaason kee paavan see kahaanee hai 
kabhee kabira deevaana tha kabhee meera deevaanee hai 
yahaan sab log kahate hain meree aanravon mein aansoo hain
jo too samajhe to motee hai jo na samajhe to paanee hai


____________________


बदलने को तो इन आँरवों के मंज़र कम नहीं बदले 
तुम्हरी याद के मौसम, हमारेगम नहीं बदले 
तुम अगले जन्म में हमसे मिलोगी तब तो मानोगी 
जमाने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले

badalane ko to in aanravon ke manzar kam nahin badale 
tumharee yaad ke mausam, hamaaregam nahin badale 
tum agale janm mein hamase milogee tab to maanogee 
jamaane aur sadee kee is badal mein ham nahin badale


____________________

हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते 
मगर रस्मे-वफा ये है, की ये भी कह नहीं सकते
जरा कुछ देर तुम उन साहिलों की चीरव सुन भर लो
जो लहों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते 

hamen maaloom hai do dil judaee sah nahin sakate 
magar rasme-vapha ye hai, kee ye bhee kah nahin sakate
jara kuchh der tum un saahilon kee cheerav sun bhar lo
jo lahon mein to doobe hain, magar sang bah nahin sakate 


____________________


समन्दर पीर का अन्दर है लेकिन रो नहीं सकता 
 टो आँसू प्यार का मोती है इसको रखो नहीं सकता 
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना मगर सुनले 
जो मेरा हो नहीं पाया वो तेरा हो नहीं सकता 

samandar peer ka andar hai lekin ro nahin sakata 
 to aansoo pyaar ka motee hai isako rakho nahin sakata 
meree chaahat ko dulhan too bana lena magar sunale 
jo mera ho nahin paaya vo tera ho nahin sakata 


____________________


मिले हरज़ल्म को, मुस्कान से सीना नहीं आया
अमरता चाहते थे, परगरल पीना नहीं आया 
तुम्हारी और मेरी दास्तां, में फर्क इतना है 
मुझे मरना नहीं आया, तुम्हें जीना नहीं आया 

mile harazalm ko, muskaan se seena nahin aaya
amarata chaahate the, paragaral peena nahin aaya 
tumhaaree aur meree daastaan, mein phark itana hai 
mujhe marana nahin aaya, tumhen jeena nahin aaya 


____________________


पनाहों में जो आया हो तो उस पे वार क्या करना 
जो दिल हारा हुआ हो उस पे फिर अधिकार क्या करना 
मुहब्बत का मज़ा तो डूबने की कशमकश में है 
हो गरमालूम गहराई तो दरिया पार क्या करना 

panaahon mein jo aaya ho to us pe vaar kya karana 
jo dil haara hua ho us pe phir adhikaar kya karana 
muhabbat ka maza to doobane kee kashamakash mein hai 
ho garamaaloom gaharaee to dariya paar kya karana 


____________________


जहाँ हर दिन सिसकना है जहाँ हर रात गाना है 
हमारी ज़िन्दगी भी इक तवायफ का घराना है 
बहुत मजबूर होकरगीत रोटी के लिरवे मैंने 
तुम्हारी याद का क्या है उसे तो रोज़ आना है


jahaan har din sisakana hai jahaan har raat gaana hai 
hamaaree zindagee bhee ik tavaayaph ka gharaana hai 
bahut majaboor hokarageet rotee ke lirave mainne 
tumhaaree yaad ka kya hai use to roz aana hai


____________________


तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है, समझता हूँ 
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है, समझता हूँ 
तुम्हें में भूल जाऊंगा ये मुमकिन है नहीं लेकिन 
तुम्हीं को भूलना सबसे ज़रूरी है, समझता हूँ 


tumhaare paas hoon lekin jo dooree hai, samajhata hoon 
tumhaare bin meree hastee adhooree hai, samajhata hoon 
tumhen mein bhool jaoonga ye mumakin hai nahin lekin 
tumheen ko bhoolana sabase zarooree hai, samajhata hoon 


____________________


मैं जब भी तेज़ चलता हूँ नज़ारे छूट जाते हैं 
कोई जब रूप गढ़ता हूँ तो साँचे टूट जाते हैं 
मैं रोता हूँ तो आकर लोग कंधा थपथपाते हैं 
मैं हँसता हूँ तो अक्सर लोग मुझसे रूठ जाते हैं 


main jab bhee tez chalata hoon nazaare chhoot jaate hain 
koee jab roop gadhata hoon to saanche toot jaate hain 
main rota hoon to aakar log kandha thapathapaate hain 
main hansata hoon to aksar log mujhase rooth jaate hain 


____________________


सदा तो धूप के हाथों में ही परचम नहीं होता 
खुशी के घर में भी बोलो कभी क्या गम नहीं होता 
फकत इक आदमी के वास्ते जग छोड़ने वालों 
फकत उस आदमी से ये ज़माना कम नहीं होता 


sada to dhoop ke haathon mein hee paracham nahin hota 
khushee ke ghar mein bhee bolo kabhee kya gam nahin hota 
phakat ik aadamee ke vaaste jag chhodane vaalon 
phakat us aadamee se ye zamaana kam nahin hota 


____________________


हमारे वास्ते कोई दुआ माँगे, असर तो हो 
हकीकत में कहीं पर हो न हो आँखों में घर तो हो 
तुम्हारे प्यार की बातें सुनाते हैं ज़माने को 
तुम्हें खबरों में रखते हैं मगर तुमको खबर तो हो 

hamaare vaaste koee dua maange, asar to ho 
hakeekat mein kaheen par ho na ho aankhon mein ghar to ho 
tumhaare pyaar kee baaten sunaate hain zamaane ko 
tumhen khabaron mein rakhate hain magar tumako khabar to ho

____________________

बताऊँ क्या मुझे ऐसे सहारों ने सताया है 
नदी तो कुछ नहीं बोली किनारों ने सताया है 
सदा ही शूल मेरी राह से खुद हट गये लेकिन
मुझे तो हर घड़ी, हर पल बहारों ने सताया है

bataoon kya mujhe aise sahaaron ne sataaya hai 
nadee to kuchh nahin bolee kinaaron ne sataaya hai 
sada hee shool meree raah se khud hat gaye lekin
mujhe to har ghadee, har pal bahaaron ne sataaya hai


____________________


है इक नदिया के होंठों पर समन्दर का तराना है 
यहाँ फरहाद के आगे सदा कोई बहाना है 
वही बातें पुरानी थीं, वही किस्सा पुराना है 
तुम्हारे और मेरे बीच में फिर से ज़माना है 

hai ik nadiya ke honthon par samandar ka taraana hai 
yahaan pharahaad ke aage sada koee bahaana hai 
vahee baaten puraanee theen, vahee kissa puraana hai 
tumhaare aur mere beech mein phir se zamaana hai 

____________________


मेरा प्रतिमान आँसू में भिगोकर गढ़ लिया होता 
अकिंचन पाँव तब आगे तुम्हारा बढ़ लिया होता 
मेरी आँरवों में भी अंकित समर्पण की ऋचाएं थीं 
 उन्हें कुछ अर्थ मिल जाता जो तुमने पढ़ लिया होता 


mera pratimaan aansoo mein bhigokaragadh liya hota 
akinchan paanv tab aage tumhaara badh liya hota 
meree aanravon mein bhee ankit samarpan kee rchaen theen 
 unhen kuchh arth mil jaata jo tumane padh liya hota 


____________________


कोई खामोश है इतना बहाने भूल आया हूँ 
किसी की इक तरन्नुम में तराने भूल आया हूँ 
मेरी अब राह मत तकना कभी ऐ आसमाँ वालों 
मैं इक चिड़िया की आँरवों में उड़ानें भूल आया हूँ 

koee khaamosh hai itana bahaane bhool aaya hoon 
kisee kee ik tarannum mein taraane bhool aaya hoon 
meree ab raah mat takana kabhee ai aasamaan vaalon 
main ik chidiya kee aanravon mein udaanen bhool aaya hoon 

____________________


हमें दो पल सुरुरे-इश्क में मदहोश रहने दो 
जेह्न की सीढ़ियाँ उतरो, अमा ये जोश रहने दो
तुम्हीं कहते थे "ये मसले, नज़र सुलझी तो सुलझेंगे" 
नज़र की बात है तो फिरये लब खामोश रहने दो 

hamen do pal surure-ishk mein madahosh rahane do 
jehn kee seedhiyaan utaro, ama ye josh rahane do
tumheen kahate the "ye masale, nazar sulajhee to sulajhenge" 
nazar kee baat hai to phiraye lab khaamosh rahane do 


____________________


मैं उसका हूँ वो इस अहसास से इनकार करता है 
भरी महफिल में वो रुसवा मुझे हर बार करता है 
यकीं है सारी दनिया को वफा हैमझसे वो लेकिन 
मुझे मालूम है फिर भी मुझी से प्यार करता है 


main usaka hoon vo is ahasaas se inakaar karata hai 
bharee mahaphil mein vo rusava mujhe har baar karata hai 
yakeen hai saaree daniya ko vapha haimajhase vo lekin 
mujhe maaloom hai phir bhee mujhee se pyaar karata hai 


____________________


अभी चलता हूँ, रस्ते को मैं मंजिल मान लूँ कैसे
मसीहा दिल को अपनी ज़िद का कातिल मान लूँ कैसे 
तुम्हारी याद के आदिम-अन्धेरे मुझको घेरे हैं 
तुम्हारे बिन जो बीते दिन उन्हें दिन मान लूँ कैसे 

abhee chalata hoon, raste ko main manjil maan loon kaise
maseeha dil ko apanee zid ka kaatil maan loon kaise 
tumhaaree yaad ke aadim-andhere mujhako ghere hain 
tumhaare bin jo beete din unhen din maan loon kaise 

____________________


भ्रमर कोई कुमुदिनी पर मचल बैठा तो हँगामा 
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हँगामा 
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मुहब्बत का 
मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हँगामा 

bhramar koee kumudinee par machal baitha to hangaama 
hamaare dil mein koee khvaab pal baitha to hangaama 
abhee tak doob kar sunate the sab kissa muhabbat ka 
main kisse ko hakeekat mein badal baitha to hangaama 


____________________

कभी कोई जो स्वलकर हँस लिया दो पल तो हँगामा 
कोई ख्वाबों में आकर बस लिया दो पल तो हँगामा 
मैं उससे दूर था तो शोर था साज़िश है, साज़िश है 
उसे बाँहों में खुलकर कस लिया दो पल तो हँगामा 

kabhee koee jo svalakar hans liya do pal to hangaama 
koee khvaabon mein aakar bas liya do pal to hangaama 
main usase door tha to shor tha saazish hai, saazish hai 
use baanhon mein khulakar kas liya do pal to hangaama 


____________________


जब आता है जीवन में खयालातों का हंगामा 
ये जज़्बातों, मुलाकातों हसीं रातों का हँगामा 
जवानी के कयामत दौर में यह सोचते हैं सब 
ये हंगामे की रातें हैं, या है रातों का हंगामा

jab aata hai jeevan mein khayaalaaton ka hangaama 
ye jazbaaton, mulaakaaton haseen raaton ka hangaama 
javaanee ke kayaamat daur mein yah sochate hain sab 
ye hangaame kee raaten hain, ya hai raaton ka hangaama

____________________


कलम को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हँगामा 
गिरेबां अपना आँसू में भिगोता हूँ तो हँगामा 
नहीं मुझ पर भी जो खुद की खबर वो है ज़माने पर 
मैं हँसता हूँ तो हँगामा, मैं रोता हूँ तो हँगामा 

kalam ko khoon mein khud ke dubota hoon to hangaama 
girebaan apana aansoo mein bhigota hoon to hangaama 
nahin mujh par bhee jo khud kee khabar vo hai zamaane par 
main hansata hoon to hangaama, main rota hoon to hangaama 

____________________


इबारत से गुनाहों तक की मंज़िल में है हँगामा 
जरा-सी पी के आये बस तो महफिल में है हँगामा 
कभी बचपन, जवानी और बुढ़ापे में है हँगामा । 
जेल में है कभी तो फिर कभी दिल में है हँगामा 

ibaarat se gunaahon tak kee manzil mein hai hangaama 
jara-see pee ke aaye bas to mahaphil mein hai hangaama 
kabhee bachapan, javaanee aur budhaape mein hai hangaama . 
jel mein hai kabhee to phir kabhee dil mein hai hangaama 

____________________


हुए पैदा तो धरती पर हुआ आबाद हँगामा 
जवानी को हमारी कर गया बर्बाद हँगामा 
हमारे भाल पर तकदीर ने ये लिरव दिया जैसे 
हमारे सामने है और हमारे बाद हँगामा 


hue paida to dharatee par hua aabaad hangaama 
javaanee ko hamaaree kar gaya barbaad hangaama 
hamaare bhaal par takadeer ne ye lirav diya jaise 
hamaare saamane hai aur hamaare baad hangaama 

____________________


ये उर्दू बज़्म है और मैं तो हिन्दी माँ का जाया हूँ 
ज़बानें मुल्क की बहनें हैं ये पैग़ाम लाया हूँ 
मुझे दुगनी मुहब्बत से सुनो उर्दू ज़बाँ वालों 
मैं अपनी माँ का बेटा हूँ, मैं घर मौसी के आया हूँ 

ye urdoo bazm hai aur main to hindee maan ka jaaya hoon 
zabaanen mulk kee bahanen hain ye paigaam laaya hoon 
mujhe duganee muhabbat se suno urdoo zabaan vaalon 
main apanee maan ka beta hoon, main ghar mausee ke aaya hoon 

____________________


स्वयं से दूर हो तुम भी, स्वयं से दूर हैं हम भी 
बहुत मशहूर हो तुम भी, बहुत मशहूर हैं हम भी 
 बड़े मग़रूर हो तुम भी, बड़े मग़रूर हैं हम भी 
अतः मजबूर हो तुम भी, अतः मजबूर हैं हम भी 


svayan se door ho tum bhee, svayan se door hain ham bhee 
bahut mashahoor ho tum bhee, bahut mashahoor hain ham bhee 
bade magaroor ho tum bhee, bade magaroor hain ham bhee 
atah majaboor ho tum bhee, atah majaboor hain ham bhee


____________________


हरेक टूटन, उदासी, ऊब आवारा ही होती है 
इसी आवारगी में प्यार की शुरुआत होती है 
मेरे हँसने को उसने भी गुनाहों में गिना जिसके 
हरेक आँसू को मैंने यूं संभाला जैसे मोती है 

harek tootan, udaasee, oob aavaara hee hotee hai 
isee aavaaragee mein pyaar kee shuruaat hotee hai 
mere hansane ko usane bhee gunaahon mein gina jisake 
harek aansoo ko mainne yoon sambhaala jaise motee hai 

____________________



कहीं पर जग लिये तुम बिन, कहीं पर सो लिये तुम बिन 
भरी महफ़िल में भी अक्सर, अकेले हो लिये तुम बिन
ये पिछले चन्द बरसों की, कमाई साथ है अपने 
कभी तो हँस लिये तुम बिन, कभी फिररो लिये तुम बिन

 kaheen par jag liye tum bin, kaheen par so liye tum bin 
bharee mahafil mein bhee aksar, akele ho liye tum bin
ye pichhale chand barason kee, kamaee saath hai apane 
kabhee to hans liye tum bin, kabhee phiraro liye tum bin 



____________________


हमें दिल में बसाकर अपने घर जाएँ तो अच्छा हो 
हमारी बात सुन लें और ठहर जाएँ तो अच्छा हो 
ये सारी शाम जब नज़रों ही नज़रों में बिता दी है 
तो कुछ पल और ऑरवों में गुज़र जाएँ तो अच्छा हो 

hamen dil mein basaakar apane ghar jaen to achchha ho 
hamaaree baat sun len aur thahar jaen to achchha ho 
ye saaree shaam jab nazaron hee nazaron mein bita dee hai 
to kuchh pal aur oravon mein guzar jaen to achchha ho 

____________________


नज़र में शोरिवयाँ लब पर मुहब्बत का तराना है 
मेरी उम्मीद की जद में अभी सारा ज़माना है 
कई जीते हैं दिल के देश पर मालूम है मुझको 
सिकन्दर हूँ मुझे इक रोज़ खाली हाथ जाना है 

nazar mein shorivayaan lab par muhabbat ka taraana hai 
meree ummeed kee jad mein abhee saara zamaana hai 
kaee jeete hain dil ke desh par maaloom hai mujhako 
sikandar hoon mujhe ik roz khaalee haath jaana hai 

____________________



हमारे शेर सुनकर भी जो वो रवामोश इतना है 
खुदा जाने गुरुरे-हुस्न में मदहोश कितना है 
किसी प्याले ने पूछा है सुराही से सबब मय का 
जो खुद बेहोश है वो क्या बताए होश कितना है 


hamaare sher sunakar bhee jo vo ravaamosh itana hai 
khuda jaane gurure-husn mein madahosh kitana hai 
kisee pyaale ne poochha hai suraahee se sabab may ka 
jo khud behosh hai vo kya batae hosh kitana hai 

____________________



बस्ती-बस्ती घोर उदासी, पर्वत-पर्वत रवालीपन 
मन हीरा बेमोल लुट गया, घिस-घिस रीता तन चन्दन 
इस धरती से उस अम्बर तक, दो ही चीज़ ग़ज़ब की हैं 
एक तो तेरा भोलापन है, एक मेरा दीवानापन 

bastee-bastee ghor udaasee, parvat-parvat ravaaleepan 
man heera bemol lut gaya, ghis-ghis reeta tan chandan 
is dharatee se us ambar tak, do hee cheez gazab kee hain 
ek to tera bholaapan hai, ek mera deevaanaapan 

____________________



इस दीवानेपन की लौ में, धरती-अम्बर, छूट गया 
आँरवों में जो लहरा था वो, आँचल पल भर, छूट गया 
टूट गयी बाँसुरी और हम बने द्वारिकाधीश मगर 
अपना गोकुल बिसर गया और गाँव-गली, घर छूट गया 

is deevaanepan kee lau mein, dharatee-ambar, chhoot gaya 
aanravon mein jo lahara tha vo, aanchal pal bhar, chhoot gaya 
toot gayee baansuree aur ham bane dvaarikaadheesh magar 
apana gokul bisar gaya aur gaanv-galee, ghar chhoot gaya 

____________________



सब अपने दिल के राजा हैं सबकी कोई रानी है 
कभी प्रकाशित हो न हो पर सबकी एक कहानी है 
बहुत सरल है पता लगाना किसने कितना दर्द सहा 
जिसकी जितनी आँरव हँसे हैं उतनी पीर पुरानी है

sab apane dil ke raaja hain sabakee koee raanee hai 
kabhee prakaashit ho na ho par sabakee ek kahaanee hai 
bahut saral hai pata lagaana kisane kitana dard saha 
jisakee jitanee aanrav hanse hain utanee peer puraanee hai

____________________



जिसकी धुन पर दुनिया नाचे, दिल ऐसा इकतारा है 
जो हमको भी प्यारा है और, जो तुमको भी प्यारा है 
झूम रही है सारी दुनिया, जबकि हमारे गीतों पर 
तब कहती हो प्यार हुआ है, क्या अहसान तुम्हारा है 


jisakee dhun par duniya naache, dil aisa ikataara hai 
jo hamako bhee pyaara hai aur, jo tumako bhee pyaara hai 
jhoom rahee hai saaree duniya, jabaki hamaare geeton par 
tab kahatee ho pyaar hua hai, kya ahasaan tumhaara hai 

____________________


बमती बनना बहुत सरल है कठिन है बादल हो जाना 
संजीदा होने में क्या है मुश्किल पागल हो जाना 
सँग खेलते हैं सब लेकिन कितने लोग हैं ऐसे जो 
सीख गये हैं फागुन की मस्ती में फागुन हो जाना 

bamatee banana bahut saral hai kathin hai baadal ho jaana 
sanjeeda hone mein kya hai mushkil paagal ho jaana 
sang khelate hain sab lekin kitane log hain aise jo 
seekh gaye hain phaagun kee mastee mein phaagun ho jaana 

____________________


सखियों सँग रंगने की धमकी सुनकर क्या डर जाऊँगा 
तेरी गली में क्या होगा ये मालूम है पर आऊँगा 
भीग रही है काया सारी खजुराहो की मूरत-सी 
इस दर्शन का और प्रदर्शन मत करना मर जाऊँगा 

sakhiyon sang rangane kee dhamakee sunakar kya dar jaoonga 
teree galee mein kya hoga ye maaloom hai par aaoonga 
bheeg rahee hai kaaya saaree rakhajuraaho kee moorat-see 
is darshan ka aur pradarshan mat karana mar jaoonga 

____________________



किस्मत सपन संवार रही है, सूरज पलकें चूम रहा है 
यूँ तो जिसकी आहट भर से, धरती अम्बर झूम रहा है  
नाच रहे हैं जंगल, पर्वत, मोर, चकोर सभी लेकिन 
उस बादल की पीड़ा समझो, जो बिन बरसे घूम रहा है 

kismat sapan sanvaar rahee hai, sooraj palaken choom raha hai 
yoon to jisakee aahat bhar se, dharatee ambar jhoom raha hai  
naach rahe hain jangal, parvat, mor, chakor sabhee lekin 
us baadal kee peeda samajho, jo bin barase ghoom raha hai 

____________________



हमने दुःरव के महा-सिन्धु से सुरव का मोती बीना है 
और उदासी के पंजो से, हँसने का सुरव छीना है 
मान और सम्मान हमें ये याद दिलाते हैं पल-पल 
भीतर-भीतर मरना है पर बाहर-बाहरजीना है

hamane dukh ke maha-sindhu se surav ka motee beena hai 
aur udaasee ke panjo se, hansane ka surav chheena hai 
maan aur sammaan hamen ye yaad dilaate hain pal-pal 
bheetar-bheetar marana hai par baahar-baaharajeena hai

____________________



इस उड़ान पर अब शर्मिंदा, तू भी है और मैं भी हूँ 
आसमान से गिरा परिदा, तू भी है और मैं भी हूँ 
छूट गयी रस्ते में जीने-मरने की सारी कसमें 
अपने अपने हाल में जिंदा, तू भी है और मै भी हूँ 

is udaan par ab sharminda, too bhee hai aur main bhee hoon 
aasamaan se gira parida, too bhee hai aur main bhee hoon 
chhoot gayee raste mein jeene-marane kee saaree kasamen 
apane apane haal mein jinda, too bhee hai aur mai bhee hoon 

____________________



खुशहाली में इक बदहाली, तू भी है और मैं भी हूँ 
हर निगाह पर एक सवाली, तू भी है और मैं भी हूँ 
दुनियां कुछ भी अर्थ लगाये, हम दोनों को मालूम है 
भरे-भरे पर रवाली-रवाली, तू भी है और मैं भी हूँ 

khushahaalee mein ik badahaalee, too bhee hai aur main bhee hoon 
har nigaah par ek savaalee, too bhee hai aur main bhee hoon 
duniyaan kuchh bhee arth lagaaye, ham donon ko maaloom hai 
bhare-bhare par ravaalee-ravaalee, too bhee hai aur main bhee hoon.

____________________



तुम अमर राग-माला बनो तो सही 
एक पावन शिवाला बनो तो सही 
लोग पढ़ लेंगें तुमसे सबक प्यार का 
प्रीति की पाठशाला बनो तो सही 

tum amar raag-maala bano to sahee 
ek paavan shivaala bano to sahee 
log padh lengen tumase sabak pyaar ka 
preeti kee paathashaala bano to sahee 

____________________



तालको ताल की सँकृति तो मिले 
रुप को भाव की अनुकृति तो मिले
 में भी सपनों में आने लगूं आपके 
पर मुझे आपकी स्वीकृति तो मिले 

taalako taal kee sankrti to mile 
rup ko bhaav kee anukrti to mile
 mein bhee sapanon mein aane lagoon aapake 
par mujhe aapakee sveekrti to mile 
____________________


दीप ऐसे बुझे फिरजले ही नहीं
जन्म इतने मिले फिर सिले ही नहीं 
ब्दार्य किस्मत पे रोने से क्या फायदा 
सोच लेना कि हम तुम मिले ही नहीं 

deep aise bujhe phirajale hee nahin
janm itane mile phir sile hee nahin 
bdaary kismat pe rone se kya phaayada 
soch lena ki ham tum mile hee nahin 

____________________


लाख अंकुश सहे इस मृदुल गात पर
 बन्दिरों कब निभी मेरे जज़्बात पर 
आपने पर मुझे बेवफा जब कहा 
आँरव नम हो गयीं आपकी बात पर 

laakh ankush sahe is mrdul gaat par
 bandiron kab nibhee mere jazbaat par 
aapane par mujhe bevapha jab kaha 
aanrav nam ho gayeen aapakee baat par 
____________________



झूठी तसल्लियों से कुछ भी भला न होगा 
था प्यार ही अधूरा खुलकर पता न होगा 
अब भी समय है उसको रो-रो के रोक लो तुम 
वो दूर जाने वाला घर से चला न होगा 

jhoothee tasalliyon se kuchh bhee bhala na hoga 
tha pyaar hee adhoora khulakar pata na hoga 
ab bhee samay hai usako ro-ro ke rok lo tum 
vo door jaane vaala ghar se chala na hoga 
____________________



वही कच्चे आमों के दिन गाँव में हैं 
वही नर्म छाँवों के दिन गाँव में हैं 
मगर ये शहर की अजब उलझनें हैं 
न तुम गाँव में हो न हम गाँव में हैं 

vahee kachche aamon ke din gaanv mein hain 
vahee narm chhaanvon ke din gaanv mein hain 
magar ye shahar kee ajab ulajhanen hain 
na tum gaanv mein ho na ham gaanv mein hain 
____________________



मोह को त्यागे हुए पँछी बहुत खुश थे 
रात भर जागे हुए पँठी बहुत खुश थे 
यूँ किसी कोने में कोई डर भी था लेकिन 
नीड़ से भागे हुए पछी बहुत खुश थे 

moh ko tyaage hue panchhee bahut khush the 
raat bhar jaage hue panthee bahut khush the 
yoon kisee kone mein koee dar bhee tha lekin 
need se bhaage hue pachhee bahut khush the 
____________________



दर्द का साज दे रहा हूँ तुम्हें 
दिल के सब राज़ दे रहा हूँ तुम्हें 
ये ग़ज़ल, गीत सब बहाने हैं 
मैं तो आवाज़ दे रहा हूँ तुम्हें..... 

dard ka saaj de raha hoon tumhen 
dil ke sab raaz de raha hoon tumhen 
ye gazal, geet sab bahaane hain 
main to aavaaz de raha hoon tumhen.....







0 comments:

Post a Comment