Wednesday, August 28, 2019

Best Shayari On Zalim Zindgi

Best Shayari On Zalim Zindgi:




Best Shayari On Zalim Zindgi
Shayari On Taluqaaat

Click For: Dua Shayari Hindi 

Taluqaaat badhane hain to

Kuch aadtein buri bhi seekh lo

Aeb naa ho to..

Log mehfilo'n mein nahi bulaate...

_______________________



ताल्लुक़ात बढ़ाने हैं तो

कुछ आदतें बुरी भी सीख लो.

ऐब ना हो

लोग महफ़िलों में नहीं बुलाते.


_______________________


If so....

Learn some bad habits too

Are not you

People do not call people...





Zindgi Shayari
Zindgi Shayari

Click For: Aada Quotes English



Which can not be forgotten from us

We have passed that life

_______________________


जो गुज़ारी न जा सकी हम से 

हम ने वो ज़िंदगी गुज़ारी है 

_______________________


Jo guzari na ja saki ham se 

Ham ne vo Zindagi guzaari hai.




 दिल मेरा ना बन सका
 दिल मेरा ना बन सका

Click For: Hawa Shayari 



तू वो ज़ालिम है जो..

 दिल में रह कर भी मेरा ना बन सका ग़ालिब.

और दिल वो काफिर है जो.....

मुझ में रह कर भी तेरा हो गया.

_______________________


Tu wo zaalim hai jo..

 Dil mein rah kar bhi mera na ban saka "Gaalib".

Aur dil vo kafir hai jo.....

Mujh mein rah kar bhi tera ho gaya.





Ajeeb zulm Sahyari
 Zulm Shayari




Ajeeb zulm krati hain.

  Teri yaade mujh par.. 

So jau to utha detee hain.

 Jaag jau to rula deti hai...

_______________________



अजीब जुल्म करती हैं

  तेरी यादें मुझ पर 

सो जाऊं तो उठा देती हैं

जाग जाऊँ तो रुला देती है



तन्हाई का मंजर
तन्हाई का मंजर



तन्हाई का मंजर देकर...

उदासी पर ताली बजाती है...

क्या करूंँ यारों...

मेरी महबूबा भी बड़ी जालिम है...


_______________________


Tanhayi ka manzar dekar...

Udaasi par taali bajaati hai...

Kya karu yaaron...

Meri mahabooba bhi badi zaalim hai..



Mere apne Shayari
Mere apne Shayari




Mere apne he itne bedard hai,

Jo hazaar maut marte hai mujhe,

Itni zaalim to maut bhi na thi....

_______________________

मेरे अपने ही इतने बेदर्द है,

जो हज़ार मौत मरते है मुझे,

इतनी ज़ालिम तो मौत भी न थी...



Ghayal Shayari
Ghayal Shayari

Click For: Love Shayari

Kar deti hain ghaayal,

Kya achook nishana hai,

Nazaren dekho unakee jaise teer-kamaan,

Ye zaalim bhi unaka diwana hai.

_______________________



कर देती हैं घायल,

क्या अचूक निशाना है,

नज़रें देखो उनकी जैसे तीर-कमान,

यह ज़ालिम भी उनका दीवाना है।





Ab aur kitna tadpana chaahti hai Ee zaalim zindagi

Mujhe us se door kar diya ye kam hai kya..

_______________________


अब और कितना तड़पाना चाहती है ऐ ज़ालिम ज़िन्दगी

मुझे उससे दूर कर दिया ये कम है क्या...





Hontho'n par 'Suyi' rakh kar kehta hai wo Zaalim,

Kya 'Gila Shikwa' hai ab bolte kyun nahi.

_______________________


होंठो' पर 'सुई' रख कर कहता है वो ज़ालिम,

क्या 'गिला शिकवा' है अब बोलते क्यों नहीं.






Mere maula zara saath chalana mere

Aj mere yaar se baat karen,

Zara ilm dekar aayen unhen

Ki wo bhi to kabhi iqraar kare.

_______________________


मेरे मौला ज़रा साथ चलना मेरे

आज मेरे यार से बात करें,

ज़रा इल्म देकर आयें उन्हें

की वो भी तो कभी इक़रार करे।






Jo na maane vo kaha hamaara,

Aao ham donon milakar 

Us zaalim se taqrar karen.

_______________________


जो ना माने वो कहा हमारा,

आओ हम दोनों मिलकर 

उस ज़ालिम से तक़रार करें।





Wo sitamagar tha zaalim tha qaatil bhi tha

Us ko masoom kah kar bulaaya gaya..

_______________________


वह सितमगर था ज़ालिम था क़ातिल भी था

उस को मासूम कह कर बुलाया गया





Click For: Funny Shayari 

Tum ho isliye jee raha hoon 
Warna zaalim duniya mei rehne ka shaukin nhi hoon.

_______________________


तुम हो इसलिए जी रहा हूँ 

वरना ज़ालिम दुनिया में रहने का शौकीन नहीं हूँ





Click For: Hindi Love Quotes

Unhen humaari naraazgi se koii farq nahi padta.

Zalimo se reham ki ummid rakhna bevakufi hai.

_______________________

उन्हें हमारी नाराज़गी से कोई फर्क नहीं पड़ता

ज़ालिमों से रहम की उम्मीद रखना बेवकूफी है.





zaalim tha wo aur zulm ki aadat bhi bahut thi 

majaboor the ham us se mohabbat bhi bahut thi..

_______________________


ज़ालिम था वो और ज़ुल्म की आदत भी बहुत थी 

मजबूर थे हम उस से मोहब्बत भी बहुत थी. 







Click For: Birthday Shayari

Zaalim ne kya nikali raftaar rafta rafta 

Is chaal par chalegi talwaar rafta rafta.


_______________________


ज़ालिम ने क्या निकाली रफ़्तार रफ़्ता रफ़्ता 

इस चाल पर चलेगी तलवार रफ़्ता रफ़्ता





Main bhi bahut ajeeb hu.

 itana ajeeb hoon ki bas...!! 

Khud ko tabaah kar liya aur.... 

malaal bhi nahin.....

_______________________


मैं भी बहुत अजीब हूँ 

इतना अजीब हूँ कि बस 

ख़ुद को तबाह कर लिया और 

मलाल भी नहीं....






0 comments:

Post a Comment