Monday, July 29, 2019

Masoom Shayari | Masoom Poetry | Masoom Shayari Hindi | Masoom Quotes English

Masoom Shayari | Masoom Poetry | Masoom Shayari Hindi | Masoom Quotes English:


Masoom Shayari
Masoom Shayari


Read Also: Dard Shayari English


Tabeeyat Ki Abhi Tak Apni Kamzori Pakadti Hai
Koi Hai Jo Haveda Apni Khamoshi Pakdti Hai

Wahi Masoom-Si Khwahis Jise Ghar Chod Aaya Tha
Bhare Bazar Mein Aakr Meri Ungali Pakadti Hai

Use Hum Apne Hi Dusman Ke Hatho Bech Aaye Hain
Humare Paanv Ko Jis Khet Ki Mitti Pakadti Hai

Meri Masrufiyat Bhi Lamh-e-Khali Ka Mazhar Hai
Ba-Shakle-Rayegan Jo Subh Ki Gadi Pakadti Hai

Kisi Jalti Hui Rut Ne Kharash Us Par Nahi Dala

Abhi Tak Gulshan-e-Hasti Mein Wo Titali Pakadti Hai

_______________________


तबीयत की अभी तक अपनी कमज़ोरी पकड़ती है
कोई है जो हावड़ा अपनी ख़ामोशी पकड़ती है

वही मासूम-सी ख्वाहिश जिसे घर छोड़ आया था
भरे बाजार में आकर मेरी उँगली पकड़ती है

उसे हम अपने ही दुसमन के हाथों बेच आये हैं
हमारे पाँव को जिस खेत की मिटटी पकड़ती है

मेरी मसरूफियत भी लम्ह-इ-खली का मज़हर है
बा-शक्ल-रायगन जो सुबह की गाड़ी पकड़ती है

किसी जलती हुई रुत ने ख़राश उस पर नहीं डाला
अभी तक गुलशन-इ-हस्ती में वो तितली पकड़ती है



Tera Chehra Shayari
Tera Chehra Shayari


0 comments:

Post a Comment