Saturday, July 20, 2019

Dard Shayari | Dard Shayari Hindi | Dard Shayari English | Sad Dard Quotes

Dard Shayari | Dard Shayari Hindi | Dard Shayari English | Sad Dard Quotes


Dard Shayari
Dard Shayari

Tumhari Yaad Ke Saaye Mere Dil Ke Andhere Mein,

Bahut Takleef Dete Hain Mujhe Jeene Nahi Dete,

Akeli Raah Mein Humraah Koi Mil Toh Jata Hai,

Magar Kuchh Dard Hain Jo Dil Behlne Nahi Dete.



_______________________




तुम्हारी याद के साए मेरे दिल के अँधेरे में,

बहुत तकलीफ देते हैं मुझे जीने नहीं देते,

अकेली राह में हमराह कोई मिल तो जाता है,

मगर कुछ दर्द हैं जो दिल बहलने नहीं देते।



_______________________




Mujhe Samajhane Ka Daur Kabhi Kyoon Nahi Hota

Mujhasa Majaboor Kabhi Too Kyoon Nahin Hota

Kya Farq Hai Teri Vafa Aur Meri Vafa Mein 

Mujhe Behisaab Ho Tujhe Dard Kyoon Nahin Hota



_______________________


मुझे समझने का दौर कभी क्यूँ नही होता

मुझसा मजबूर कभी तू क्यूँ नहीं होता

क्या फ़र्क़ है तेरी वफ़ा और मेरी वफ़ा में 

मुझे बेहिसाब हो तुझे दर्द क्यूँ नहीं होता



_______________________




 Dard hai dil mein par isaka ehasaas nahin hota,
Rota hai dil jab vo paas nahin hota,
Barbaad ho gae ham usake pyaar mein,
Aur vo kahate hain is tarah pyaar nahin hota.

_______________________


दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,

रोता है दिल जब वो पास नहीं होता,

बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,

और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता। 



_______________________




Gulshan Ki Baharon Pe Sar-e-Shaam Likha Hai,

Phir Uss Ne Kitabon Pe Mera Naam Likha Hai,

Yeh Dard Isee Tarah Meri Duniya Mein Rahega,

Kuchh Soch Ke Uss Ne Mera Anjaam Likha Hai.


_______________________





गुलशन की बहारों पे सर--शाम लिखा है,

फिर उस ने किताबों पे मेरा नाम लिखा है,

ये दर्द इसी तरह मेरी दुनिया में रहेगा,

कुछ सोच के उस ने मेरा अंजाम लिखा है।



_______________________




Dard se rishta purana raha,

Har kadam ek naya fasana raha,

Kise kahe ye dil apna?

Yaha toh har apna begana raha.

_______________________




दर्द से रिश्ता पुराना रहा,

हर कदम एक नया फ़साना रहा,

किसे कहे ये दिल अपना?

यहाँ तोह हर अपना बेगाना रहा!




_______________________




Khamoshyian Kar Deti Bayaan Toh Alag Baat Hai,

Kuchh Dard Hain Jo Lafzo Mein Utaare Nahi Jate.



खामोशियाँ कर देतीं बयान तो अलग बात है,

कुछ दर्द हैं जो लफ़्ज़ों में उतारे नहीं जाते।



_______________________



Na kiya kar apne dard ko Shayari mein byaan aye nadan dil,

kuchh log toot jaate hain ise apni daastaan samajhkar. 



ना किया कर अपने दर्द को शायरी में ब्यान नादान दिल,

कुछ लोग टूट जाते हैं इसे अपनी दास्तान समझकर।



_______________________



Ab Toh Haathon Se Lakeerein Bhi Miti Jati Hain,

Usey Khokar Mere Paas Raha Kuchh Bhi Nahi.



अब तो हाथों से लकीरें भी मिटी जाती हैं,

उसे खोकर मेरे पास रहा कुछ भी नहीं।



_______________________



Use meri shayari pasand aai kyun ki esme dard tha..

na jaane kyon..

Main pasand nahin aaya mujhme usse jyada dard tha.



उसे मेरी शायरी पसंद आई क्योंकि इनमें दर्द था..

जाने क्यों..

मै पसंद नहीं आया मुझमें उससे ज्यादा दर्द था।



_______________________



Roj Pilata Hu Ek Zeher Ka Pyala Use,

Ek Dard Jo Dil Mein Hai Marta Hi Nahi Hai.



रोज़ पिलाता हूँ एक ज़हर का प्याला उसे,

एक दर्द जो दिल में है मरता ही नहीं है।



_______________________



sawaal Shayari
sawaal Shayari


Kahne waalon ka kuchh nahin jaata​

Sahane waale kamaal karte hain

Kaun dhoondhen jawaab dardo ke​,

Log to bas sawaal karte hai.

_______________________




कहने वालों का कुछ नहीं जाता

सहने वाले कमाल करते हैं

कौन ढूंढें जवाब दर्दों के​,

लोग तो बस सवाल करते है।



_______________________



Mere Toh Dard Bhi Auron Ke Kaam Aate Hain,

Mein Ro Padoo Toh Kayi Log Muskurate Hain.



मेरे तो दर्द भी औरों के काम आते हैं,

मैं रो पडूँ तो कई लोग मुस्कराते है।



_______________________



Kiya Hai Bardasht Tera Har Dard Isee Aas Ke Saath,

Ke Khuda Noor Bhi Barsata Hai Aazmaishon Ke Baad. 



किया है बर्दाश्त तेरा हर दर्द इसी आस के साथ,

कि खुदा नूर भी बरसाता है आज़माइशों के बाद। 



_______________________



Log Muntzir Hi Rahe Ke Humein Toota Hua Dekhein,

Aur Hum The Ke Dard Sahte-Sahte Patthar Ke Ho Gaye.



लोग मुन्तज़िर ही रहे कि हमें टूटा हुआ देखें,

और हम थे कि दर्द सहते-सहते पत्थर के हो गए।



_______________________



Tujhse Pahle Bhi Kayi Zakhm The Seene Mein Magar,

Ab Ke Woh Dard Hai Ke Ragein TootTi Hain. 



तुझसे पहले भी कई जख्म थे सीने में मगर,

अब के वह दर्द है दिल में कि रगें टूटती हैं। 



_______________________



Jaane-Tanha Pe Gujar Jayein Hajaro Sadmein,

Aankh Mein Ashq Bhi Aayein Yeh Jaroori To Nahi.



जाने-तन्हा पे गुजर जायें हजारो सदमें,

आँख में अश्क भी आयें ये जरूरी तो नहीं।



_______________________



Parda Girte Hi Khatm Ho Jaate Hain Tamaashe Saare,

Khoob Rote Hain Fir Auron Ko Hansaane Wale.



पर्दा गिरते ही खत्म हो जाते हैं तमाशे सारे,

खूब रोते हैं फिर औरों को हँसाने वाले।



_______________________



Takleef Ye Nahin Ke Tumhein Azeez Koi Aur Hai,

Dard Tab Hua Jab NajarAndaz Koye Gaye.



तकलीफ ये नहीं कि तुम्हें अज़ीज़ कोई और है,

दर्द तब हुआ जब हम नजरंदाज किए गए।



_______________________



Aaj Uss Ne Ek Dard Diya Toh Mujhe Yaad Aaya,

Humne Hi Duaaon Mein Uske Saare Dard Mange The. 



आज उस ने एक दर्द दिया तो मुझे याद आया,

हमने ही दुआओं में उसके सारे दर्द माँगे थे।



_______________________



Tod Diye Maine Ghar Ke Aayine Sabhi,

Pyar Mein Haare Huye Log Mujhse Dekhe Nahi Jate.



तोड़ दिए मैंने घर के आईने सभी,

प्यार में हारे हुए लोग मुझसे देखे नहीं जाते।



_______________________


0 comments:

Post a Comment